नवरात्रि के बाद कलश का क्या करें? : Navratri ke Baad Kalash ka kya kare ?

नवरात्रि के बाद कलश का क्या करें? : Navratri ke Baad Kalash ka kya kare ?,पूजा के बाद नारियल का क्या करना चाहिए, नवरात्रि के बाद कलश का क्या करें,कलश विसर्जन विधि

पूरे देशभर में नवरात्रि धूमधाम से मनाए गए। 15 अक्टूबर को नवरात्रि की स्थापना कई अब देश में दुर्गा के नौ स्वरूपों की प्रतिदिन अलग अलग स्वरूप की पूजा करी जाती है। हिंदू धर्म में आस्था रखने वाले नवरात्रि को बड़ा ही शुभ मानते हैं नवरात्रि के समय पर अलग अलग शुभ कार्य भी करते हैं। 15 अक्टूबर को नवरात्रि की शुरुआत हुई, जो कि। 24 अक्टूबर को समाप्त होंगे या कुछ लोग अस्राठ्ममी या नवमी को भी समापन करते है !

नवरात्रि के समय शुभ मुहूर्त में कलश स्थापना कराई जाती है। लेकिन क्या आपको पता है कि नवरात्रि समाप्ति के बाद उस कलाश का क्या करना चाहिए? अगर नहीं तो इस आर्टिकल को पूरा पढ़े। आपको बता दें साल 2023 की शरद। नवरात्रि का शुभारंभ 15 अक्टूबर को हुआ था, जो समापन 24 अक्टूबर को होगा। नवरात्रि के पहले दिन कलश स्थापना कराई जाती है। पूरे 9 दिन तक पूजा घर में कलश रखा जाता है और पूजा किया जाता है। दुर्गा के नौ स्वरूपों की अलग अलग दिन पूजा करी जाती है। मान्यता है कि घर पर कलश स्थापना करने से मातारानी आप अपने भक्तों पर प्रसन्न होती हैं और मनोकामना पूर्ण होती है।

Navratri ke Baad Kalash ka kya kare ?

नवरात्रि के बाद कलश का क्या करें? : – नवरात्रि स्थापना के समय घर में झुक कलश स्थापित किया गया। आखिर नवरात्रि समापन के बाद उस कलश का क्या करना चाहिए? यह सवाल आपके मन में भी होगा और देशवासियों के काफी लोगों के मन में सवाल है, हम आपको बताते हैं की नवरात्रि के बाद पवित्र कलश का क्या करना चाहिए ?

नवरात्रि के बाद कलश का क्या करें?

कलश पर रखें नारियल का इस्तमाल अष्टमी या नवमी पर कन्या पूजन की दिन किया जा सकता है। इसके अलावा घट स्थापना के दौरान जिन चावलों पर कलश रखा जाता है। उन्हें घर के हर कोने पर छिड़क लेना चाहिए। माना जाता है कि इससे सुख समृद्धि आती है।

कलश के अंदर भरे हुए जल को घर के हर कोने में छिड़क देना चाहिए। तुलसी के पौधों में डाल देना चाहिए। कलश में रखे सिक्के को तिजोरी या पर्स में डाल देना चाहिए। माना जाता है कि इससे धन के वृद्धि के योग बनते हैं।

आखिर में कलश में रखें जो को घर के बाहर किसी पेड़ या मंदिर के पास रख देना चाहिए। इस तरह पूर्ण रूप से कलश का विसर्जन होता है। हम आपको बता दें यह पूरी जानकारी हम मान्यताओं और धर्म तो पर आधारित विभिन्न इंटरनेट वेब साइट से आपके लिए लेकर आए हैं। जानकारी को मानने से पहले आप विशेषज्ञ से सलाह भी ले सकते हैं।

Leave a Comment