Virat Kohli -सोचा नहीं था इस मुकाम तक आऊंगा: शमी ने कहा-आगे वर्ल्डकप खेलने को मिले या नहीं, इसलिए अच्छा परफॉर्म करना चाहता हूं

भारत ने वर्ल्ड कप सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड को 70 विकेट से हराया। भारतीय टीम 12 साल बाद टूर्नामेंट के फाइनल में पहुंची है।

मैच के बाद कप्तान रोहित शर्मा ने कहा तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी का प्रदर्शन टर्निंग पॉइंट रहा। वहीं रिकॉर्ड 50वां वनडे शतक बनाने वाले विराट कोहली ने कहा कि सचिन ने मुझे बधाई दी। यह मेरे लिए सपने जैसा था।

Virat Kohli  बाद कहा, ‘अच्छा, मैं महसूस कर रहा हूं…, उस महान व्यक्ति (तेंदुलकर) ने मुझे बधाई दी। मेरे लिए यह सब एक सपने जैसा लगता है, यह असली है। यह सच होना बहुत शानदार है। मुझे कभी नहीं लगा कि मैं अपने करियर में इस मुकाम तक पहुंच पाउंगा। यह सेमीफाइनल है, मुझे खुशी है कि सब कुछ एक साथ हुआ।’

Virat Kohli ने आगे कहा, ‘मेरे लिए सबसे महत्वपूर्ण बात अपनी टीम को जीत दिलाना है। मुझे इस टूर्नामेंट में एक भूमिका दी गई है और मैं आखिरी ओवरों तक खेलने की कोशिश करता हूं। मैंने भूमिका निभाई ताकि दूसरे खिलाड़ी खुल कर खेल सकें। मैं निरंतर अच्छा प्रदर्शन इस लिए कर पा रहा हूं, क्योंकि मैं परिस्थितियों के मुताबिक और टीम के लिए खेलता हूं।

शमी बोले- मैं अपने मौके का इंतजार कर रहा था
7 विकेट लेने के लिए मोहम्मद शमी को प्लेयर ऑफ द मैच का अवॉर्ड मिला। अवॉर्ड मिलने पर उन्होंने कहा, ‘मैं अपने मौके का इंतजार कर रहा था। न्यूजीलैंड के खिलाफ ही मुझे चांस मिला था। हम यॉर्कर, स्लोअर और बाउंसर स्ट्रैटजी अपनाते हैं। लेकिन ज्यादा विकेट मुझे नई गेंद से मिले, इसलिए मैं कोशिश करता हूं कि शुरुआत में ही विकेट ही निकाल लूं। विलियमसन का जो कैच छूटा, मुझे काफी खराब लगा। बोर्ड पर काफी रन थे, इसलिए बॉल का पेस कम किया और उसी का मुझे फायदा मिला।’

‘विकेट पर स्लोअर बॉल ही ज्यादा काम की थी, शाम में एक डर था कि ड्यू आ सकती है, लेकिन घास अच्छे तरह से काट रखी थी, इसलिए ड्यू का ज्यादा असर नहीं हुआ। एक ही चांस था कि अगर ड्यू आ जाती तो स्लोअर बॉल फेंकने का ऑप्शन कम हो जाता है और चेज आसान हो सकता था।’

‘इतने बड़े प्लेटफॉर्म पर कंट्री के लिए आप वर्ल्ड कप खेल रहे हो तो परफॉर्म करना अच्छा लगता है। लास्ट 2 वर्ल्ड कप में हम सेमीफाइनल में ही लटक गए थे। आगे पता नहीं वर्ल्ड कप खेलने का चांस मिलेगा या नहीं, इसलिए जो मौके मिल रहे हैं उन्हीं पर परफॉर्म कर लेता हूं।’

विलियमसन बोले, ‘टीम के एफर्ट से खुश हूं’
‘भारत ने अपना बेस्ट गेम खेला। निराशा होती है जब सेमीफाइनल से हारकर बाहर हो जाते हैं, लेकिन टीम की फाइट ने खुशी दी। विराट, श्रेयस और शुभमन ने हमें मौके ही नहीं दिए। रोहित और कोहली वर्ल्ड क्लास बैटर्स हैं, उनके सामने गलतियां नहीं कर सकते।’

‘क्राउड और सपोर्ट बहुत शानदार था, हमारे लिए सपोर्ट थोड़ा कम था, लेकिन हम अच्छा खेले। टीम के रूप में हम अच्छा करना चाहते थे। टूर्नामेंट में रचिन और मिचेल ने बेहतरीन बैटिंग की, उन्होंने हमें यहां तक पहुंचाया। बॉलर्स के लिए टूर्नामेंट कुछ खास नहीं रहा, लेकिन आखिर में हम टीम के रूप में यहां से और आगे बढ़कर अच्छा करना चाहेंगे।’

रोहित बोले, ‘फील्डिंग थोड़ा खराब रही, लेकिन शमी ने टर्निंग पॉइंट दिलाया’
‘यहां (मुंबई) मैंने बहुत क्रिकेट खेला है, किसी भी तरह का स्कोर यहां सेफ नहीं है। हमें बस विकेट लेते रहना है, हमने आज फील्डिंग में थोड़ा निराश किया, लेकिन लगातार 9 मैचों में अच्छा करने के बाद ऐसे मौके भी आ जाते हैं।’

‘न्यूजीलैंड ने बेहतरीन बैटिंग की, विलियमसन और मिचेल की बैटिंग के सामने स्कोर छोटा लग रहा था, क्राउड भी शांत हो गया था, लेकिन हमने धैर्य रखा। ऐसे मौके पर टर्निंग पॉइंट की जरूरत होती है, वो हमें शमी ने दिलाया। शमी ने बेहतरीन बॉलिंग की।’

‘श्रेयस और राहुल को जब भी मौके मिले, उन्होंने परफॉर्म किया है। शुभमन ने जिस तरह से शुरुआत दी, उससे हमें कॉन्फिडेंस मिला। रिटायर्ड हर्ट होना खराब लगता है, लेकिन वह अच्छा खेले। कोहली पर हमेशा भरोसा रहता है, उन्होंने एक बार फिर उसे साबित किया। 50 सेंचुरी के लैंडमार्क तक सेमीफाइनल में पहुंचना टीम को अच्छे नतीजे देता है। शुरुआती 9 मैचों में जीत का कॉन्फिडेंस था, न्यूजीलैंड के सामने थोड़ी परेशानी हुई, लेकिन मैच के नतीजे से खुश हूं।’

Read Also : Shami : मैक्ग्राथ की लिस्ट में जुड़ा मोहम्मद शमी का नाम, सेमीफाइनल में कर दिखाया कारनामा

ताजा खबरे यहाँ पाए : यहाँ दबाए

Leave a Comment